ग्राम पंचायत लिड्ऊपुर लिटावली में सड़क निर्माण न होने से नाराज ग्रामीणों ने विधान सभा चुनाव का किया बहिष्कार …

जगम्मनपुर,जालौन :- विकास खंड रामपुरा अंतर्गत ग्राम पंचायत लिड्ऊपुर लिटावली में सडक निर्माण न होने से नाराज ग्रामीण इस माह होने बाले विधान सभा चुनाव का बहिष्कार करेंगे। उक्त आशय की जानकारी मिलने पर स्थानीय पत्रकारों की टीम जब ग्राम लिड्ऊपुर पहुची तो सैकड़ो लोगों से मुलाकात कर सचाई जानना चाही तो पता चला कि बर्षो से सडक निर्माण की मांग को पूरा नही होने के कारण अब सब्र जबाब दे गया है अतः मतदान बहिष्कार ही करेंगे। 

श्रीपत सिंह सेंगर ने स्पष्ट कहा कि जब नेता और अधिकारियों को हमारे नर्क को खत्म करने की चिंता नहीं तो मैं चुनाव में किसी की हार जीत का कारण क्यों बंनू। और मतदान क्यों करू। 

पूर्व प्रवक्ता व प्रसिद्ध कलाकार रामपाल सिंह सेंगर ने बताया कि गत बीस बर्ष से इस गांव को मुख्य सडकों से जोडने बाली तीनो सडके पूर्णतः खत्म हो गई है परिणाम स्वरुप इस गांव की युवा पीढ़ी शिक्षित होने के लिए अनेक कष्ट सहने को मजबूर है । स्वरुप सिंह ने बताया कि हम सबका  मुख्य बाजार जगम्मनपुर है लेकिन खराब रास्ता के कारण महीनों बाजार नही जा पाते है ।

लल्लन सिंह ने कहा कि अभी नहीं तो कभी नहीं के नारे पर हम चुनाव बहिष्कार करेंगे। इस चुनाव बहिष्कार का समर्थन कर रहे गजेन्द्रसिंह फूलसिंह रामकुमार दीक्षित सुभाष दीक्षित गोले पाल धर्मवीर पाल मुन्ना राठौर लाल जी राठौर रामजी कुशवाहा रामसेवक शाक्यवार देवेन्द्र दोहरे दौलत दोहरे राधेलाल तथा गब्बरसिंह अनिल सिंह मानसिंह  भारत सिंह बलराम सिंह रामबीर सिंह आदि ने स्पष्ट कहा कि हम किसी के झांसे में नहीं आएगे। सडक निर्माण के लिए करो य मरो की स्थिति तक संघर्ष करेंगे।

आप भी जाने क्या कुछ ख़ास है राष्ट्रपति के बजट मे ….

pranab-568x395

नई दिल्ली :- संसद में बजट सत्र की शुरुआत आज राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के अभिभाषण के साथ हुई। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने इस मौके पर कहा कि ये ऐतिहासिक मौका है जब बजट सत्र 1 फरवरी को पेश हो रहा है साथ ही आम बजट के साथ ही रेल बजट को पेश किया जा रहा है।

राष्ट्रपति का अभिभाषण, बड़ी बातें :

सबका साथ-सबका विकास’ सरकार का पहला लक्ष्य है।
इस साल रेल और आम बजट पहली बार एक साथ पेश किया जा रहा है।
यह बजट साइकल का ऐतिहासिक सत्र है।
मेरी सरकार जनशक्ति को नमन करती है।
स्वच्छ भारत मिशन जन आंदोलन बन गया।
2.2 करोड़ लोगों ने LPG की सब्सिडी छोड़ दी।
26 करोड़ जनधन अकाउंट खोले गए।
सभी सरकारी नीतियों के मूल में गरीब, पीड़ित, दलित, वंचित, की भलाई रही है।
3 करोड़ टॉइलट्स का निर्माण किया गया।
13 करोड़ गरीब सामाजिक सुरक्षा योजना से जुड़े।
गरीबों के लिए पीएम आवास योजना चलाई।
मुद्रा योजना के जरिए लोगों को लोन मिले।
उज्जवला योजना के तहत गरीबों को गैस कनेक्शन मिले।
खरीफ की फसल में 6 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई।
11 हजार गांवों को बिजली पहुंचाई।
इंद्रधनुष योजना के अंतर्गत बच्चों को बीमारियों से बचाने के लिए टीके लगाए गए।
उज्ज्वला योजना से लाभ पाने वालों में 37 प्रतिशत अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के हैं।
पीएम फसल बीमा से किसानों को लाभ पहुंचा।
मातृत्व अवकाश 12 हफ्ते से 26 हफ्ते किया।
सेना में भी महिलाओं को बराबर मौका मिला।
पहली बार 3 महिला लड़ाकू पायलट बनीं।
रोजगार बढ़ाने के लिए 6000 करोड़ का बजट।
महिलाओं को बराबर मौके मिलने चाहिए: मुखर्जी
सरकार ‘नारी शक्ति’ को इस विकास यात्रा का अभिन्न हिस्सा बना रही है।
7वें वेतन आयोग से 50 लाख कर्मचारियों को फायदा।
खेलों में दिव्यागों की उपलब्धियां सराहनीय।
दिव्यांगों के लिए आरक्षण बढ़ाकर 4 फीसदी।
1 करोड़ को PMKVY के तहत रोजगार का लक्ष्य।
2022 तक सबको घर देने का लक्ष्य।
UNI नंबर से कर्मचारियों को फायदा।
उत्तर-पूर्व में रेलवे के विस्तार पर 10 हजार करोड़ खर्च।
हल्दिया गैस पाइपलाइन योजना को हरी झंडी।
उत्तर-पूर्व के जरिये पड़ोसी देशों के लिए रास्ते खोले।
उत्तर-पूर्व के राज्यों को आर्थिक मदद दे रही सरकार।
उत्तर-पूर्व में रेलवे के विस्तार पर 10 हजार करोड़ खर्च।
रेलवे के आधुनिकीकरण के लिए 1.2 लाख करोड़ मुहैया करवाये गए।
गांवों में अब तक 73 हजार किलोमीटर सड़कें बनाईं।
सभी गांवों को सड़कों से जोड़ने का लक्ष्य।
अरुणाचल, मेघालय में रेल लाइन का विस्तार होगा।
75 हजार गांवों को ऑप्टिकल फाइबर कनेक्शन।
सागरमाला प्रोजेक्ट के तहत बंदरगाहों का होगा विकास।
मत्स्य विभाग को खास तवज्जो मिलती रहेगी।
47-75 GW स्वच्छ ऊर्जा पैदा करने का लक्ष्य।
2016-17 में मनरेगा का बजट सबसे ज्यादा।
कालेधन पर कड़े कानून बनाए गए।
आतंकी घुसपैठ रोकने के लिए सर्जिकल स्ट्राइक की गई।
हमें सेना पर गर्व है।
नोटबंदी से कालाधन रोकने में मदद।
मोबाइल एप ”BHIM” अंबेडकर के नजरिये को सलाम।
जनधन खातों में 36 हजार करोड़ सब्सिडी।
आधार पेमेंट सिस्टम जल्द लागू होगा।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा :

बजट सत्र का सर्वाधिक उपयोग जनहित के लिए हो।
सार्थक चर्चा हो, बजट की भी बारीकी से चर्चा हो, पहली बार बजट एक साथ हो रहा है।
आप सब को स्मरण होगा, पहले बजट पांच बजे पेश किया जाता था।
जब अटल जी की सरकार थी तब से उसे समय परिवर्तित कर सदन प्रारंभ होते ही पेश किया जाता था।
आज एक नई परंपरा का शुभारंभ हो रहा है।
बता दें कि आज ही आर्थिक सर्वेक्षण भी पेश किया जाएगा। बजट सत्र का पहला हिस्सा 31 जनवरी से 9 फरवरी तक चलेगा जबकि दूसरा हिस्सा 9 मार्च से शुरु होकर 12 अप्रैल तक चलेगा।

शाही बग्घी में बैठकर संसद भवन पहुंचे राष्ट्रपति
इससे पहले राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी पारंपरिक शाही बग्घी में बैठकर राष्ट्रपति भवन से संसद भवन पहुंचे। मुखर्जी ने राष्ट्रपति भवन से बग्घी में बैठकर संसद भवन पहुंचने की पुरानी परंपरा का निर्वाह किया। इस दौरान उनके साथ घोड़ों पर सवार अंगरक्षक भी थे।

आर्थिक सर्वेक्षण पेश करेंगे जेटली

संसद के दोनों सदनों को राष्ट्रपति के अभिभाषण के बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली आर्थिक सर्वेक्षण पेश करेंगे। ये पहला मौका है जब राष्ट्रपति के अभिभाषण के तुरंत बाद ये दस्तावेज संसद के पटल पर रखा जाएगा।

क्या है आर्थिक सर्वेक्षण ?

आर्थिक सर्वेक्षण अर्थव्यवस्था की सालाना आधिकारिक रिपोर्ट होती है।
इस दस्तावेज को बजट सत्र के दौरान संसद के दोनों सदनों में पेश किया जाता है।
इसमें भविष्य में बनाई जाने वाली योजानाओं और अर्थव्यवस्था में आने वाली चुनौतियों की सारी जानकारी दी जाती है।
इस सर्वेक्षण में देश के आर्थिक विकास का अनुमान होता है।
आर्थिक सर्वेक्षण में इस बात की जानकारी दी जाती है कि आगामी वित्त वर्ष में देश की अर्थव्यवस्था रफ्तार पकड़ेगी या फिर धीमी रहेगी।
सर्वेक्षण के आधार पर ही सरकार द्वारा बजट में ऐलान किए जाते हैं, हालांकि इन सिफारिशों को मानने के लिए सरकार कानूनी तौर पर बाध्य नहीं होती

राजरप्पा मंदिर में युवक ने चढ़ाई अपनी बलि, चारों ओर अफरा-तफरी …

whatsapp-image-2017-01-31-at-12-26-47-pm-2

बिहार के एक युवक ने झारखंड के राजरप्पा मंदिर में अपनी गर्दन काट ली है। बताया जाता है कि बक्सर के रहने वाले एक युवक ने रामगढ़ के राजरप्पा मंदिर में अपना सिर चढ़ा दिया।

whatsapp-image-2017-01-31-at-12-26-47-pm

युवक ने पहले मां छिन्नमस्तिका के सामने खड़े होकर दर्शन देने की गुहार लगाई। काफी देर बाद जब उस पर निराशा हावी होने लगी तो उसने कहा कि मेरी बात नहीं मानोगी मां… और अपनी गर्दन काट ली।
इस घटना से आस-पास खड़े लोग चकित रह गए। मंदिर में भगदड़ मच गई। हालांकि अब इसमें कुछ नई बातें भी सामने आ रही हैं। मंदिर के पंडा ने जहां इसे हत्या बताया है। वहीं चश्मदीद इसे आत्महत्या बता रहे हैं। पुलिस CCTV के वीडियो फुटेज को खंगाल रही है।

whatsapp-image-2017-01-31-at-12-26-47-pm-1
मृतक की पहचान बक्सर के युवक संजय नट के रूप में हुई है। उसने सुबह 6 बजकर 24 मिनट पर मंदिर के अंदर अपनी बलि दे दी। मृतक युवक के पास से एक मोबाइल मिला है। जिसके बाद पुलिस ने उसके परिवार से संपर्क किया।
जिसके बाद पता चला कि वो माता का भक्त था और राजरप्पा मंदिर में पूजा करने आया था। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। फिलहाल, मंदिर में पूजा रोक दी गई है।

मतदेय स्थलों का निरीक्षण पांच फरवरी से पहले कर लें …. संदीप कौर

photo-1

उरई(जालौन) : जनपद में विधान सभा सामान्य निर्वाचन 2017 का मतदान 23 फरवरी को सम्पन्न होना है इसलिए समस्त जोनल एवं सेक्टर मजिस्ट्रेट अपने-अपने क्षेत्रों के मतदेय स्थलों का निरीक्षण पांच फरवरी को कर ले और वहां उपलब्ध सुविधाओं की जानकारी कर अपनी निरीक्षण रिपोर्ट में लिख कर दे जिससे वहां की कमियों को दूर कराया जा सके। उक्त बात जिलाधिकारी श्रीमती संदीप कौर ने आज प्रखर पैराडाईज पैलेस में जोनल एवं सेक्टर मजिस्टेªट की बैठक में कही।

photo-2

उन्होंने कहा कि निर्वाचन प्रकिया का निष्पक्ष स्वतंत्र और शान्तिपूर्ण तरीके से कराने हेतु समस्त व्यवस्थाओं को सुनिश्चित किया जाना अनिवार्य है इसके साथ ही समस्त सेक्टर मजिस्ट्रेट अपने-अपने बूथों का निरीक्षण करते समय ग्रामवासियों से भी बातचीत कर ग्राम की स्थिति तथा वहां के माहौल की जानकारी हासिल अवश्य करे। जिससे वहां पर माहौल के हिसाब से पुलिस व्यवस्था पर्याप्त मात्रा में की जा सके। जोनल एवं सेक्टर मजिस्ट्रेट 22 फरवरी को मतदान पार्टियों को नवीन गल्ला मंडी आटा से रवाना करेगे और 23 फरवरी को वहीं पर ईवीएम सहित सभी मशीने एवं स्टेशनरी जमा होगी। पोलिंग पार्टियां रवाना होने के बाद जोनल एवं सेक्टर मजिस्ट्रेट यह सुनिश्चित करेगे कि पोलिंग पार्टियां अपने-अपने मतदान केन्द्र पर पहुंची या नही जब तक पार्टिया मतदान केन्द्रों तक नही पहुंचती वह मुख्यालय वापस नही आएगे। मतदान के दिन जोनल एवं सेक्टर मजिस्टेªट हर दो-दो घंटे में मतदान प्रतिशत की जानकारी बताएगे। बैठक में यह भी बताया गया कि माधौगढ विधान सभा क्षेत्र में वीवीपैट काक प्रयोग प्रथम बार किया जा रहा है इसलिए इसका प्रशिक्षण भी ईवीएम कंट्रोल यूनिट डिस्प्ले यूनिट वीवीपैट को एक दूसरे से कनैक्ट करने तथा वोटिंग कराने के संबंध में भी जानकारी दी गई। इसलिए के लिए माधौगढ विधान सभा क्षेत्र दस ग्रामों को वीवीपैट के प्रयोग की जानकारी मतदाताओं को देने हेतु चिन्हित किया गया। रिटर्निंग आफीसर एवं निर्वाचन कार्यो केे प्रभारियों को निर्देशित किया गया कि वह अपने-अपने विधान सभा क्षेत्रों के नामांकन 30 जनवरी से प्रारंभ कराए। इस बार नामांकन पत्र पर उम्मीदवार की फोटो भी लगेगी। प्रत्याशियों को जमानत धनराशि सामान्य वर्ग दस हजार रुपये, अनुसूचित वर्ग को पांच हजार रुपये जमा करना होगा। प्रशिक्षण में अपर जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह, उपजिलाधिकारी अक्षय त्रिपाठी, कालपी संजय कुमार सिंह, माधौगढ सुरेश चंद्र सोनी, नगर मजिस्ट्रेट अनिल कुमार मिश्रा, वरिष्ठ कोषाधिकारी विवेक कुमार सिंह, परियोजना निदेशक चित्रसेन सिंह सहित जोनल व सेक्टर मजिस्ट्रेट मौजूद रहे।

रेलकर्मी ने रेलवे फाटक नहीं खोला तो मीट माफिया ने काट दी ऊँगली …

1402
मुरादाबाद (उत्तर प्रदेश) । मीट माफियाओं के हौसले इन दिनों इस कदर बुंलद हैं वो सरकारी कर्मचारियों पर हमले से भी नहीं चूक रहे हैं । वाक्या मुरादाबाद का है जहां रेलवे के फाटक पर तैनात एक गेटमैन के हाथों की अंगुलियां मीट माफियां ने काट डाली ।। गेट मैन का कसूर बस इतना था कि उसने बंद फाटक को ट्रेन गुजरने से पहले खोलने से मना कर दिया था । फिर क्या था मीट माफियाओं ने उसकी कनपटटी पर पिस्टल रख कर धारदार हथियार से उसकी अंगुलियां काट दी । फिलहाल घायल कर्मचारी को अस्पताल में भर्ती कराया गया है ।। केन्द्र सरकार के एक कर्मचारी पर माफिया के हमले के बाद पुलिस और रेलवे में हडकम्प मचा हुआ है|

मूल रुप से बनारस के रहने वाले जयप्रकाष पटेल मुरादाबाद के भेाजपुर में रेलवे फाटक पर गेटमैन के पद पर तैनात हैं । रोज की तरह रात के समय जयप्रकाष अपनी डयूटी पर थे, इसी दौरान ट्रेन आने के समय पर उन्होंने फाटक बंद कर दिया । इसी दौरान वहां से मीट माफियाओं की गाड़ी गुजरी जो कि अवैध जानवरों से भरी हुई थी । जल्दी निकलने के चक्कर में मीट माफियाओं ने जयप्रकाष से फाटक खोलने को कहा लेकिन जयप्रकाष ने ट्रेन गुजरने से पहले फाटक खोलने से इंकार कर दिया । फिर क्या था बेखौफ मीट माफियां अपने वाहन से उतरे उन्होंने जयप्रकाश के सिर पर पिस्टल लगा दिया । जिसके बाद दूसरे बदमाश ने उसके हाथों की अंगुलियां काट दी। बेहोश जयप्रकाश को उसके साथियों द्धारा अस्पताल में भर्ती कराया गया है ।

हाईकमान के सामने दाल नही गल पाई दयाशंकर वर्मा की …

25orai02

सुधर जाए अफवाह फैलाने वाले वरना पार्टी सुधारेगीःजयदेव यादव

उरई(जालौन) : सदर विधायक दयाशंकर वर्मा को अपना विधायक बहाल कराने में असफलता ही हाथ लगी। समाजवादी पार्टी हाईकमान के सामने उनकी दाल नही गल पाई। विधायक कार्यकाल में उनके जो कारनामे रहे वहीं उन्हें ले डूबे। जिसके चलते पार्टी को महेन्द्र कठेरिया के नाम पर मोहर लगानी पड़ी।
समाजवादी पार्टी के सुप्रीमो अखिलेश यादव ने उरई जालौन सुरक्षित विधान सभा क्षेत्र से महेन्द्र कठेरिया को प्रत्याशी घोषित किया है जबकि इसके पहले सदर विधायक दयाशंकर वर्मा को प्रत्याशी बनाया गया था। पार्टी सूत्रों की माने तो कांग्रेस के गठबंधन के बावजूद समाजवादी पार्टी के खाते में उरई सुरक्षित सीट आई थी जहां से पार्टी अपना प्रत्याशी लड़ा रही है। जहां तक सदर विधायक दयाशंकर की बात है तो महेन्द्र कठेरिया के उम्मीदवार घोषित होने के साथ ही वह लखनऊ में डेरा जमाये रहे काफी प्रयास के बाद दयाशंकर को मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से बात करने का भी मौका नही मिल सका। दयाशंकर वर्मा के टिकट कटने के पीछे पार्टी में गुटवाजी के साथ ही उनके कारनामों से कार्यकर्ताओं में व्याप्त नाराजगी को भी माना जा रहा है। पार्टी सूत्रों की माने तो सदर विधायक दयाशंकर वर्मा ने पार्टी का काम कम केवल अपने स्वार्थो की पूर्ति में लगे रहे जिस तरह की शिकायते उनकी अखिलेश यादव के दरबार में पहुंची तभी से यह माना जाने लगा था कि दयाशंकर वर्मा का टिकट कटना तय है। हालांकि समाजवादी पार्टी द्वारा जारी की गई पहली सूची में उनका नाम शामिल था लेकिन उनके कारनामों की फेहरिस्त जब मुख्यमंत्री अखिलेश यादव तक पहुंची वैसे ही महेन्द्र कठेरिया के नाम पर मुहर लग गई थी। इसके बाद भी दयाशंकर वर्मा एवं उनके गुट के लोगों ने जिस तरह से समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी महेन्द्र कठेरिया के चुनाव प्रचार को बाधित करने तथा पल-पल पर नई-नई खबरे मीडिया में प्रोजेक्ट कराई उससे पार्टी के वरिष्ठ नेता भी उनके कन्नी काट गए और इन्ही शिकायतों के चलते सदर विधायक दयाशंकर वर्मा से मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने मुलाकात करना मुनासिब नही समझा।
समाजवादी सैनिक प्रकोष्ठ उत्तर प्रदेश के कोषाध्यक्ष जयदेव सिंह यादव ने उरई जालौन सुरक्षित क्षेत्र से समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी घोषित किए गए महेन्द्र कठेरिया का टिकट कटने की अफवाह फैलाने वाले पार्टी नेताओं एवं कार्यकर्ताओं को चेतावनी दी कि वह इस तरह की अफवाह फैलाने से बाज आए और पार्टी प्रत्याशी के चुनाव प्रचार का हिस्सा बने वरना उनकी शिकायत पार्टी हाईकमान से की जाएगी। उन्होंने कहा कि बेहतर होगा कि अब किसी का टिकट कटने और किसी दूसरे का कराने की अफवाह बंद कर दे। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी के जो नेता एवं कार्यकर्ता पार्टी का झंडा लगाकर घूम रहे है या जो अपने आपको समाजवादी पार्टी का नेता या कार्यकर्ता कहते है वह अभी से महेन्द्र कठेरिया के चुनाव प्रचार में जुट जाए जिससे उरई जालौन सुरक्षित सीट पार्टी के खाते में जाए और अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री पद पर बरकरार रखा जा सके। उन्होंने साफ किया कि अगर पार्टी का कोई भी नेता गलत अफवाह फैलाता पाया गया तो उसकी शिकायत मुख्यमंत्री से ही जाएगी।

पहले दिन नामांकन में सन्नाटा, तीनों विधानसभा सीटों के लिए कुल 18 पर्चे लिए गए

उरई-जालौन :- विधानसभा चुनाव के लिए सोमवार को जिला निर्वाचन अधिकारी संदीप कौर ने अधिसूचना जारी कर दी। नामांकन के पहले दिन किसी भी दावेदार ने नामांकन नहीं किया। वहीं जिले की तीनों विधानसभा सीटों के लिए कुल 18 पर्चे लिए गए। पहले दिन सबसे अधिक नामांकन पत्र माधौगढ़ विधानसभा क्षेत्र के लिए दावेदारों ने लिए। नामांकन प्रक्रिया के चलते पूरे दिन कलेक्ट्रेट में गहमागहमी का माहौल बना रहा। जिला निर्वाचन अधिकारी ने कलेक्ट्रेट परिसर का भ्रमण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया।

30orai01

सोमवार को विधानसभा चुनाव की अधिसूचना डीएम ने स्थानीय स्तर पर जारी कर दी। जिसके बाद जिले की तीनों विधानसभाओं से कई दावेदार पर्चे लेने पहुंचे। पहले दिन किसी भी दावेदार ने नामांकन नहीं कराया। वहीं कुल 18 दावेदारों ने पर्चे लिए। उरई विधानसभा के लिए एसडीएम न्यायालय कक्ष, कालपी विधानसभा के लिए एडीएम न्यायालय कक्ष और माधौगढ़ विधानसभा के लिए जिलाधिकारी न्यायालय कक्ष में पर्चे दिए गये। कई दावेदार तो खुद नहीं आए बल्कि अपने कार्यकर्ताओं को ही पर्चा लेने के लिए भेज दिया। पर्चा देने का समय 11 बजे से 3 बजे तक निर्धारित था। इस अवधि में कलेक्ट्रेट परिसर में काफी गहमागहमी बनी रही। अधिकारी भी मुस्तैदी के साथ जमे रहे। जिला निर्वाचन अधिकारी ने कलेक्ट्रेट परिसर का भ्रमण कर व्यवस्थाएं देखी और अधिकारियों को निर्देश दिए कि हर गतिविधि पर पैनी निगाह रखें।

इन उम्मीदवारों ने लिया पर्चा …

उरई विधानसभा क्षेत्र
– महेंद्र कठेरिया – सपा
– विजय चौधरी – बीएसपी
– सुखराम सिंह – बहुजन मुक्ति पार्टी
– कैलाश कोरी – निर्दलीय
कालपी विधानसभा क्षेत्र
– उमाकांति सिंह – कांग्रेस
– नरेंद्र सिंह जादौन – बीजेपी
– शिववीर सिंह – सीपीआई
माधौगढ़ विधानसभा क्षेत्र
– विनोद चतुर्वेदी – कांग्रेस
– गोपाल स्वरूप गांधी – किसान मजदूर बेरोजगार पार्टी
– राजेंद्र सिंह – महान दल
– कृपा शंकर द्विवेदी – निर्दलीय
– परशुराम – निर्दलीय
– अकबर अली – निर्दलीय
– गिरीश अवस्थी – बीएसपी
– रेखा जाटव – निर्दलीय
– शाकिर खां – निर्दलीय
– बांके बिहारी – निर्दलीय
– राम कुमार शाक्यवार – स्वतंत्र जनता राज पार्टी

30orai02

छावनी में तब्दील रहा कलेक्ट्रेट

नामांकन को लेकर सोमवार को कलेक्ट्रेट परिसर छावनी में तब्दील रहा। नामांकन स्थल पर चप्पे-चप्पे पर पुलिस बल तैनात रहा। कलेक्ट्रेट के आस पास भी कड़ी सुरक्षा व्यवस्था रही। हर रास्ते पर बैरियर लगे थे, जिसके चलते वाहन सवारों व राहगीरों को काफी दूर घूम कर जाना पड़ा। इससे लोग काफी परेशान हुए। पुलिस व प्रशासन के अधिकारी निरीक्षण कर सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेते रहे। नामांकन का समय खत्म होने के बाद ही यातायात सामान्य हो पाया।
सोमवार को नामांकन का पहला दिन था। जिसको लेकर कलेक्ट्रेट परिसर को छावनी बना दिया गया। कई थानों के फोर्स के साथ ही पीएसी व अन्य कंपनियों के जवान सुरक्षा में तैनात रहे। हर चप्पे पर पुलिस बल को लगाया गया था। कलेक्ट्रेट परिसर के आसपास भी तगड़ी किले बंदी की गयी थी। चुर्खी रोड, जिला परिषद, जालौन रोड पर बैरियर लगे थे। किसी भी वाहन सवार को बैरियर से नहीं निकलने दिया गया। इससे लोगों को काफी दूरी तय कर घर जाना पड़ा। इससे वाहन संचालकों को परेशानी हुई। जिला प्रशासन व पुलिस के अधिकारी निरीक्षण कर सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेते रहे। कलेक्ट्रेट परिसर में चार से अधिक लोगों को पर्चा लेने के लिए अंदर जाने की अनुमति नहीं दी गई।